October 7, 2022, 6:11 am

Kartikay Singh Vivad: बिहार के कानून मंत्री को लेकर क्यों है विवाद, कौन हैं कार्तिकेय सिंह जानिए यहां

Written By: गली न्यूज

Published On: Wednesday August 17, 2022

Kartikay Singh Vivad: बिहार के कानून मंत्री को लेकर क्यों है विवाद, कौन हैं कार्तिकेय सिंह जानिए यहां

Kartikay Singh Vivad: बिहार में महागठबंधन की सरकार बने अभी एक हफ्ता भी नहीं हुआ है कि सरकार पर विवाद बढ़ गया है। नीतीश सरकार में मंत्री कार्तिकेय सिंह (Kartikay Singh) को लेकर महागठबंधन सरकार बैकफुट पर है। कार्तिकेय सिंह बिहार के कानून मंत्री (Bihar Law Minister) हैं लेकिन उन्हें लेकर एक बड़ी जानकारी सामने आई है।

क्या है मामला ? 

https://gulynews.com को मिली जानकारी के मुताबिक बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह (Kartikay Singh Vivad) को कोर्ट में सरेंडर करना था लेकिन सरेंडर की जगह कार्तिकेय सिंह सरकार में मंत्री पद की शपथ लेते नजर आए। कार्तिकेय सिंह के मंत्री बनाए जाने के बाद नीतीश सरकार सवालों के घेरे में है। आरोप है कि कार्तिकेय सिंह को जिस दिन तक सरेंडर करना था उसी दिन उन्होंने मंत्रीपद की शपथ ली। कार्तिकेय सिंह पर एक बिल्डर की हत्या करने के लिए किडनैप करने के आरोप हैं। आईपीसी की संगीन धाराओं में से एक धारा 364 (IPC 364) के तहत कार्तिकेय सिंह के खिलाफ केस दर्ज है।

क्या है मामला ? 
  • साल 2014 में बिहटा थाने में किडनैपिंग केस दर्ज
  • पीड़ित के बयान के आधार पर कार्तिकेय सिंह का नाम आया
  • 14 जुलाई 2022 को वारंट जारी हुआ
  • 16 अगस्त 2022 को सरेंडर करना था
  • बिल्डर के किडनैपिंग केस में वारंट जारी था

मामले की खुलासा होने के बाद बिहार के नए कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह को लेकर विवाद बढ़ गया है। सरकार फिलहाल चुप है। हालांकि कार्तिकेय सिंह ने यह साफ कर दिया है कि उन्होंने पहले ही इस केस की पूरी जानकारी चुनावी हलफनामे में दे रखी है। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि कार्तिकेय सिंह कौन हैं ?

कौन हैं कार्तिकेय सिंह ?  
  • कार्तिकेय सिंह आरजेडी के विधान पार्षद हैं
  • MLC चुनाव में जेडीयू के उम्मीदवार को हराया था
  • मोकामा के रहने वाले कार्तिकेय टीचर रहे हैं
  • बाहुबली अनंत सिंह के बेहद करीबी हैं

यह भी पढ़ें:-

Street Dog Bite Case: अब इस सोसाइटी में आवारा कुत्तों ने किया हमला, मासूम समेत 2 बुरी तरह जख्मी

Leave a Reply

Your email address will not be published.