February 6, 2023, 1:40 am

UP Education Commission: योगी सरकार करेगी शिक्षा आयोग का गठन, शिक्षा में बदलाव की तैयारी

Written By: गली न्यूज

Published On: Tuesday January 3, 2023

UP Education Commission: योगी सरकार करेगी शिक्षा आयोग का गठन, शिक्षा में बदलाव की तैयारी

UP Education Commission: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath)की सरकार ने फैसला किया है कि उत्तर प्रदेश में शिक्षा आयोग ( State Education Commission ) का गठन किया जाएगा. इस बारे में आज एक बैठक होने वाली है, जिसकी अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( Chief Minister Yogi Adityanath ) करेंगे. वो इस मुद्दे पर राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों जैसे प्रमुख सचिव, उच्च शिक्षा ( Principal Secretary, Higher Education ) के साथ भी चर्चा करेंगे. और इस बात की रूपरेखा पर भी बातचीत करेंगे कि उत्तर प्रदेश में शिक्षा आयोग ( Education commission ) का गठन किस तरह से किया जाए और उसके क्या अधिकार होंगे.

जानकारी के अनुसार जब केंद्र सरकार ने नई शिक्षा पॉलिसी अपनाने की घोषणा की थी, उसी समय से राज्य में नए शिक्षा आयोग के गठन की सुगबुगाहट तेज हो गई थी. मंगलवार की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उच्च शिक्षा ( Higher Education ) माध्यमिक शिक्षा ( Secondary Education ) और प्राथमिक शिक्षा ( Basic Education ) में आने वाले बदलावों को लेकर चर्चा करेंगे.

योगी आदित्यनाथ की सरकार इसके साथ ही राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ाने के प्रयासों में जुटी है. राज्य सरकार की कोशिश है कि राज्य में 4600 हेल्थ एटीएम स्थापित किये जाएं. इन हेल्थ एटीएम पर सहायकों की नियुक्ति भी की जाएगी.

ये भी पढ़ें-

Tara Sutaria breakup: तारा सुतारिया-आदर जैन का हुआ ब्रेकअप, सालों से डेट कर रहा था कपल

सरकार विदेशी निवेशकों को उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए मनाने में सफल होती दिख रही है. अकेले यूएई से राज्य में 18,590 करोड़ रुपये के निवेश के प्रस्ताव मिले हैं. जिसके लिए एमओयू भी साइन हो गए हैं. इसके अलावा करीब 2 हजार करोड़ के अन्य निवेश भी आते दिख रहे हैं. जिसके लिए सहमति बन चुकी है. यूपी सरकार को यूएई से 21,622 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट्स के लिए 25 लेटर ऑफ इंटेंट मिले हैं, जिसके आने पर उत्तर प्रदेश में 20 हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावनाएं हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.