February 21, 2024, 6:15 pm

Noida News: बिल्डरों पर आयकर विभाग की कार्रवाई जारी, 50 करोड़ के संदिग्ध दस्तावेज बरामद

Written By: गली न्यूज

Published On: Sunday January 14, 2024

Noida News: बिल्डरों पर आयकर विभाग की कार्रवाई जारी, 50 करोड़ के संदिग्ध दस्तावेज बरामद

Noida News: नोएडा में बिल्डरों की हेराफेरी को लेकर आयकर विभाग की धामकसी जारी है। आयकर विभाग नोएडा की छापेमारी दूसरे दिन भी भूटानी, लॉजिक्स, ग्रुप 108, कोरेंथम और एडवेंट बिल्डर के ठिकानों पर जांच जारी रही। आयकर सूत्रों के मुताबिक जांच में लेनदेन से जुड़े 50 करोड़ रुपये के संदिग्ध दस्तावेज मिले हैं। वहीं, दो करोड़ रुपये नगद बरामद किए गए हैं। इसमें एक करोड़ रुपये भूटानी से जुड़े ब्रोकर के दफ्तर से मिले हैं।

क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक नोएडा में आयकर विभाग की  जांच 37 ठिकानों पर शुरू की गई थी, जिसे बढ़ाकर 40 स्थान कर दिया गया है। मुख्य रूप से यह जांच भूटानी ग्रुप की है, जिससे बाकी बिल्डर जुड़े हैं। सूत्र बताते हैं कि भूटानी परिवार करीब छह माह पहले दो हिस्सों में बंट गया था। इसमें एक भूटानी इंफ्रास्ट्रक्चर और दूसरा ग्रुप 108 है। लॉजिक्स बिल्डर के मालिक शक्तिनाथ अपने कुछ प्रोजेक्ट पूरे नहीं कर पाए थे।

Advertisement
Advertisement

इनमें से चार प्रोजेक्ट उन्होंने समझौता करके भूटानी को बनाने के लिए दे दिए थे। यही कारण है कि लॉजिक्स की जांच भी की जा रही है। इसके अलावा कोरंथम के मालिक संदीप सहानी भूटानी के पुराने पार्टनर रहे हैं। दो साल पहले पैसे का बंटबारा करके वे दोनों अलग हो गए थे। इस कारण जांच कोरंथम तक भी पहुंची है।

आयकर सूत्रों के अनुसार भूटानी से जुड़े दो ब्रोकर के दफ्तर और उनके आवास पर भी छापे मारे गए हैं। इनमें से एक ब्रोकर के दफ्तर की अलमारी, बैग और ड्रार में एक करोड़ रुपये नकद मिले हैं। बाकी पैसा भूटानी के अधिकारियों और कर्मचारियों के ठिकानों से बरामद किए गए हैं। भूटानी परिवार के सदस्यों से पूछताछ की जा रही है। इनमें मालिकों के बेटे भी शामिल हैं। आयकर सूत्र बताते हैं कि 50 करोड़ रुपये के लेनदेन की कच्ची पर्ची मिली हैं। यह ऐसा लेनदेन है, जिसका कोई हिसाब नहीं रखा गया है। ऐसे में इसे कालाधन कहना गलत नहीं होगा।

यह भी पढ़ें…

Noida News: राम भक्त बेहद आसानी से जा सकेंगे अयोध्या, नोएडा डिपो ने की खास तैयारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.