February 25, 2024, 12:02 am

Ghaziabad crime Update: महिला टीचर से मोबाइल पर कॉल करके अश्लीलता, मृत पति से जुड़े हो सकते है तार

Written By: गली न्यूज

Published On: Saturday January 28, 2023

Ghaziabad crime Update: महिला टीचर से मोबाइल पर कॉल करके अश्लीलता, मृत पति से जुड़े हो सकते है तार

Ghaziabad crime Update: गाजियाबाद (Ghaziabad crime) में महिला टीचर को अज्ञात व्यक्ति द्वारा फोन पर लगातार कॉल करने और अश्लील बातें करने का मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार, MBBS में एडमिशन के नाम पर हो रहे फ्रॉड में महिला टीचर के पति की तीन साल पहले नोएडा में हत्या हो चुकी है. ऐसे में अब महिला को अपनी और बच्चे की जान का खतरा सता रहा है. पूरे मामले में पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है. महिला टीचर ने बताया कि एक अज्ञात नंबर से पहले 25 जनवरी को उनके बेटे के फोन में कॉल आई और फिर 26 जनवरी को उनके नंबर पर कॉल आई. जिसमें एक व्यक्ति ने उनसे अश्लील बातें की.

क्या है पूरा मामला ?

गाजियाबाद के खोड़ा कॉलोनी के अनिल विहार निवासी टीचर ममता रावत ने बताया उनका 12 साल का बेटा वंश रावत नोएडा सेक्टर-55 के रेडिएंट एकेडमी स्कूल में सातवीं क्लास में पढ़ता है. 25 जनवरी को बेटे के मोबाइल पर अज्ञात नंबर से कॉल आई. कॉलिंग नंबर सेव नहीं होने की वजह से ये कॉल ममता ने रिसीव की. ममता के मुताबिक, फोन करने वाले शख्स ने उनसे अश्लील बातें कहीं. उन्होंने इस नंबर को ब्लॉक कर दिया. इस पर 26 जनवरी को उसी शख्स ने सीधे ममता रावत के नंबर पर कॉल की और फिर से अश्लीलता की.

पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

ममता का कहना है कि अज्ञात व्यक्ति की हरकतों से वह मानसिक रूप से तनाव में हूं और असुरक्षा की भावना महसूस कर रही है. ममता ने बताया कि पति संजीव रावत की साल-2019 में नोएडा के थाना एक्सप्रेस-वे में हत्या कर दी गई थी. हत्याकांड में कुछ लोग जेल भी गए थे. ममता का कहना है कि हत्याकांड के अभियुक्त जेल से जमानत पर बाहर आ चुके हैं. इसलिए उन्हें अपनी जान का खतरा है. पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें-

Uttar Pradesh News: शादी के दौरान बाप-बेटे ने एक-दूसरे को जड़े थप्पड़, दूल्हन बनी वजह!

 

9 सितंबर 2019 को हुई थी टीचर के पति की हत्या

नोएडा के एक्सप्रेस-वे इलाके में 9 सितंबर 2019 को यमुना पुश्ते के पास एक व्यक्ति की लाश बरामद हुई. इसकी पहचान संजीव रावत निवासी खोड़ा गाजियाबाद के रूप में हुई. 25 सितंबर 2019 को पुलिस ने इस मामले में नीरज उर्फ हरेंद्र, समीर राय, सोनल सिंह, राजेश उर्फ दबंग को गिरफ्तार किया था. खुलासा हुआ कि मृतक और आरोपी एक गैंग बनाकर मेडिकल पढ़ाई के इच्छुक बच्चों को एडमिशन का झांसा देकर ठगते थे. संजीव रावत भी इसी गैंग का मेंबर था. गैंग मेंबरों को शक था कि संजीव उनकी पोल खोल सकता है. इसलिए उन्होंने कार से कुचलकर संजीव को मार डाला था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.