February 25, 2024, 12:13 am

Benefits of cycling: साइकिल चलाना कितना फायदेमंद ? नहीं रहेगा बीमारियों का खतरा

Written By: गली न्यूज

Published On: Saturday January 28, 2023

Benefits of cycling: साइकिल चलाना कितना फायदेमंद ? नहीं रहेगा बीमारियों का खतरा

Benefits of cycling: आज के समय में साइकिल चलाना एक्साइज (cycling excise) का हिस्सा बन चुका है. कई लोग सुबह के समय एक्साइज करने के बजाय साइकिलिंग कर लेते हैं. इससे शरीर फिट तो रहता है, साथ ही यह हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है. वज़न को नियंत्रित करता है, डायबिटीज के जोख़िमों को कम करता है, मांसपेशियों को मज़बूत करता है और गठिया की रोकथाम में भी मदद करता है. पर ये फ़ायदे तब नुक़सान में बदल जाते हैं जब हम साइकिल चलाते वक़्त ग़लतियां करते हैं. अगर साइकिलिंग को एक्साइज के तौर पर कर रहे हैं तो इससे जुड़ी सावधानियां और ज़रूरी बातों का ध्यान रखना भी ज़रूरी है.

साइकिलिंग किसी भी वक़्त कर सकते हैं. लेकिन साइकिलिंग सुबह के समय अधिक फ़ायदेमंद है.

साइकिलिंग करते वक्त की ग़लतियां ?
  • साइकिल चलाते हैं तो कम किलोमीटर से शुरुआत करने के बजाय एक बार में 10-15 किलोमीटर बिना रुके तय कर लेते हैं.
  • बीच में आराम नहीं करते.
  • इस दौरान खानपान का ध्यान भी नहीं रखा जाता. इससे वज़न घटने के बजाय बढ़ सकता है.
साइकिलिंग का सही तरीक़ा

साइकिलिंग से पहले वॉर्मअप ज़रूर करें. अगर पहली बार साइकिलिंग करने जा रहे हैं तो पहले 2-3 किलोमीटर से शुरुआत करें. धीरे-धीरे इसे बढ़ाते जाएं. अगर क्षमता से अधिक दूरी तय करेंगे तो पैरों में दर्द होगा और शरीर में भारीपन व दर्द महसूस होगा. रोज़ साइकिलिंग की अधिकतम दूरी 10 से 12 किलोमीटर ही होनी चाहिए. साइकिल बहुत तेज़ी से न चलाएं. गति सामान्य रखें. समूह में साइकिलिंग कर रहे हैं तो बातें न करते हुए सिर्फ़ साइकिल चलाएं. ईयर फोन्स लगाना भी उचित नहीं है. सिर्फ़ सड़क पर ध्यान दें. ऐसी जगह या सड़क चुनें जहां अधिक ट्रैफिक न हो. खाली सड़क होने से आप पूरा ध्यान साइकिलिंग पर लगा सकेंगे.

इन्हें साइकिलिंग से बचना चाहिए
  • अगर कमर और घुटनों से संबंधित कोई समस्या है तो साइकिलिंग से पहले डॉक्टरों की सलाह लें.
  • अस्थमा के मरीजों को या फिर जिन्हें सांस फूलने की समस्या है, उन्हें साइकिलिंग नहीं करनी चाहिए.
  • जिन्हें मिर्गी के दौरे आते हैं उन्हें भी किसी की देखरेख और डॉक्टर की सलाह पर ही साइकिलिंग करनी चाहिए.
खाने पर दें ध्यान

साइकिल चलाने से पहले ज्यादा भोजन न करें और साइकिलिंग के तुरंत बाद भी भोजन नहीं करना चाहिए. खूब पानी पिएं और रस भरे फलों व जूस का सेवन करें ताकि साइकिलिंग के वक्त निकलने वाले पसीने की पूर्ति की जा सके.

ये भी पढ़ें-

Plant based meat: प्लांट बेस्ड मीट खा सकते हैं शाकाहारी लोग, जानिए खासियत

सुबह का नाश्ता

सुबह के नाश्ते में दलिया खा सकते हैं. चना, मूंग की दाल और सोयाबीन के दाने रात में भिगोकर सुबह नाश्ते में ले सकते हैं. उबले अंडे, ब्रेड, ऑमलेट और एक गिलास मलाईदार दूध भी पी सकते हैं. नाश्ता करके कुछ देर बाद मौसमी फल या ग्रीन टी ले सकते हैं. सूखे मेवे लें जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती रहे.

दोपहर का भोजन

गेहूं की दो रोटियां, सब्ज़ी, दाल और थोड़े-से चावल ले सकते हैं. सूखे मेवे भी खा सकते हैं. खाने के साथ खीरा, चुकंदर आदि का सलाद जरूर लें. एक कटोरी दही खाने से पाचन सही रहेगा और ऊर्जा बनी रहेगी.

शाम का नाश्ता

फल, सूखे मेवे, ब्रेड-ऑमलेट और पोहा ले सकते हैं. एक कप ग्रीन टी पी सकते हैं.

रात का भोजन

दो रोटी और दाल के साथ हरी व मौसमी सब्ज़ियों का सेवन जरूर करें. रात में तला-भुना खाने से बचें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.