February 25, 2024, 6:55 am

Greater Noida News: 7 फीसदी आबादी भूखंड के विकास शुल्क पर ब्याज से राहत, किसानों को होगा लाभ

Written By: गली न्यूज

Published On: Tuesday January 30, 2024

Greater Noida News: 7 फीसदी आबादी भूखंड के विकास शुल्क पर ब्याज से राहत, किसानों को होगा लाभ

Greater Noida News: ग्रेटर नोएडा में किसानों की ब्याज की समस्या से राहत की बड़ी खबर है। किसानों को सात फीसदी आबादी भूखंड के विकास शुल्क पर अब ब्याज नही देना होगा। इससे लगभग छह हजार से अधिक किसानों को लाभ मिलेगा क्योंकि ग्रेनो प्राधिकरण ब्याज पहले ही माफ कर चुका है। इसके अलावा 7 के बजाय 10 फीसदी आबादी भूखंड का लाभ दिए जाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

क्या है पूरा मामला

खबर के अनुसार ग्रेटर नोएडा में यमुना प्राधिकरण क्षेत्र के किसानों को सात फीसदी आबादी भूखंड के विकास शुल्क पर लगने वाले ब्याज से राहत मिल गई है। इसके अलावा 7 के बजाय 10 फीसदी आबादी भूखंड का लाभ दिए जाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है। जमीन अधिग्रहण से प्रस्तावित किसानों को मुआवजे के साथ 7 फीसदी आबादी भूखंड का लाभ दिया जाता है। आबादी भूखंड वाले सेक्टरों में प्राधिकरण की ओर से सड़क, सीवर, नाली, बिजली आदि विकास कार्य कराए जाते हैं। इसके लिए रजिस्ट्री के समय किसान को विकास शुल्क जमा करना होता है।

Advertisement
Advertisement

निर्धारित समयावधि में भूखंड पर निर्माण कार्य नहीं करने पर विकास शुल्क पर ब्याज लगाया जाता है। लेकिन अब मूल धनराशि पर लगने वाले ब्याज में शत प्रतिशत छूट दिए जाने का निर्णय लिया गया है। प्राधिकरण बोर्ड की इस पर मुहर लग गई है। इससे छह हजार से अधिक किसानों को लाभ मिलेगा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के किसानों को इसका लाभ पहले ही मिल चुका है।

पुश्तैनी-गैर पुश्तैनी का भेद होगा खत्म

ग्रेटर नोएडा में यमुना प्राधिकरण की स्थापना से पहले किसानों को पुश्तैनी का लाभ नहीं दिया गया। अब 23 साल बाद ऐसे 800 लोगों को पुश्तैनी किसानों की तरह सात फीसदी भूखंड और मुआवजा की अंतर धनराशि मिल सकेगी। गौरतलब है कि पुश्तैनी किसानों को मुआवजा भी अधिक दिया जाता है और उनको सात फीसदी जमीन भी प्रदान की जाती है।

यह भी पढ़ें…

Big Political News: राबरी देवी की तरह कल्पना सोरेन संभालेंगी सीएम की कुर्सी, मनी लांड्रिंग में फंसे हेमंत सोरेन

Leave a Reply

Your email address will not be published.