February 25, 2024, 6:29 am

Parakram Diwas Special: पराक्रम दिवस पर नेताजी सुभाषचंद्र बोस के विचारों से लें प्रेरणा

Written By: गली न्यूज

Published On: Tuesday January 23, 2024

Parakram Diwas Special: पराक्रम दिवस पर नेताजी सुभाषचंद्र बोस के विचारों से लें प्रेरणा

Parakram Diwas Special:राष्‍ट्रीय आंदोलन के पराक्रमी नायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 23 जनवरी 2024 को 127वीं जयंती है। इस खास दिन को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश की आजादी की लड़ाई को नई ऊर्जा देने वाले नेता जी का जन्‍म साल 1897 को ओडिशा के कटक शहर में हुआ था। नेताजी की जिंदगी और देश के लिए उनका त्‍याग आज भी युवाओं के लिए प्रेरणादायक है।

उनकी जयंती  पर हम लेकर आए हैं नेता जी के कुछ जोशीले और प्रेरणादायक विचार, जिन्हें आप शेयर कर सकते हैं और सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते हैं…

नेता जी सुभाष चंद्र बोस के प्रेरणादायक विचार आज भी युवाओं को उतना ही प्रेरित करते हैं जितना कि आजादी के आंदोलन के दौरान करते थे। एक बार उन्‍होंने कहा था कि तुम खुद की ताकत पर अगर भरोसा करो तो हर काम संभव है। जबकि दूसरों से ली गई ताकतें उधार की होती हैं जो घातक साबित हो सकती है। नेता जी सुभाष चंद्र बोस के प्रेरणादायक विचार आज भी युवाओं को उतना ही प्रेरित करते हैं जितना कि आजादी के आंदोलन के दौरान करते थे। एक बार उन्‍होंने कहा था कि तुम खुद की ताकत पर अगर भरोसा करो तो हर काम संभव है। जबकि दूसरों से ली गई ताकतें उधार की होती हैं जो घातक साबित हो सकती है।

Advertisement
Advertisement

गलतियों को अगर आप चुपचाप देखकर अनदेखा कर रहे हैं तो इससे बड़ा अपराध कोई नहीं। सुभाष चंद्र बोस भी लोगों को यह प्रेरणा देते थे कि याद रखो अगर तुम अन्‍याय सह रहे हो, अपराध देख रहे हो या गलत के साथ समझौता कर रहे हो तो यह सबसे बड़ा अपराध है। नेता जी हमेशा उच्‍च विचारों पर चलना स्‍वीकार करते थे। उन्‍होंने अपने विचारों में भी यह कहा था कि अगर आप उच्‍च विचारों के साथ जीवन जीते हैं तो यह आपकी कमजोरियों को दूर करने का ताकत देती है। इसलिए हमें उच्‍च विचारों के साथ जीना चाहिए।

नेताजी जिस भी काम को पूरा करने की ठान लेते थे, उसे पूरा करने के बाद ही दम लेते थे. यह उनके काम का तरीका था। एक बार उन्‍होंने कहा था कि जिस व्यक्ति के अंदर सनक नहीं होती, वो कभी महान नहीं बन सकता। नेता जी जीवन में संघर्ष को काफी महत्‍व देते थे। उनका मानना था कि संघर्ष इंसान को बेहतर बनने में मदद करता है। एक बार उन्‍होंने कहा था कि संघर्ष ने ही मुझे मनुष्य बनाया और मुझमें आत्मविश्वास पैदा हुआ।

यह भी पढ़ें…

Greater Noida West News: इस सोसाइटी में तेज हुआ मंदिर बनाने का संघर्ष, बिल्डर के खिलाफ एकजुट हुए निवासी

Leave a Reply

Your email address will not be published.