February 21, 2024, 5:19 pm

National Girl Child Day: कोमल है कमजोर नही, शक्ति का नाम नारी है….

Written By: गली न्यूज

Published On: Wednesday January 24, 2024

National Girl Child Day: कोमल है कमजोर नही, शक्ति का नाम नारी है….

National Girl Child Day: आज भारत की बेटियां हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं। वे शिक्षा, खेल, राजनीति से लेकर कई अन्य क्षेत्रों में अपना और देश का नाम रोशन कर रही हैं। ऐसे में भारत सरकार भी उनका साथ दे रही है। सरकार बेटियों के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए कई कदम उठा रही है। इसी कड़ी में भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। आखिर क्या है राष्ट्रीय बालिका दिवस? आईये जानते हैं विस्तार से।

भारत में, आज भी कई जगहों पर लड़कियों के सामने भेदभाव और हिंसा की समस्या आ रही है। उन्हें शिक्षा, रोजगार के अवसरों से वंचित किया जा रहा है। आज भी उन्हें बाल विवाह, यौन शोषण जैसे हिंसाओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में लड़कियों को इन समस्याओं से निजात दिलाने और देशभर के लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन भारतीय इतिहास की एक शक्तिशाली महिला नेता इंदिरा गांधी से ने पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिया था। यह दिन बालिकाओं के अधिकारों, उनके लिए एक सुरक्षित और स्वस्थ माहौल बनाने के लिए लोगों को जागरूक करता है। इस अवसर पर देशभर में विभिन्न कार्यक्रम और अभियान आयोजित किये जाते हैं।

Advertisement
Advertisement

राष्ट्रीय बालिका दिवस का इतिहास और महत्व

आपको बता दें कि हर साल 24 जनवरी को बालिका दिवस मनाये जाने की सबसे बड़ी वजह यह है कि 1966 को इसी दिन इंदिरा गांधी ने पहली महिला प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। यह दिन भारत के इतिहास का बेहद महत्वपूर्ण दिन था। वहीं साल 2008 में महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से इस दिन को हर साल मनाये जाने की घोषणा की गयी। तब से लेकर हर साल 24 जनवरी को देश में लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने और उन्हें अहम दर्जा देने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है।

आपको बता दें कि राष्ट्रीय बालिका दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य है लड़कियों के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना, उनके प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करना, उनके लिए एक सुरक्षित और स्वस्थ माहौल बनाना और लोगों को उनके साथ समान व्यवहार करने के लिए प्रोत्साहित करना। इसके अलावा यह दिन लड़कियों के प्रति हिंसा और शोषण को रोकने के लिए प्रोत्साहित करता है और साथ ही लड़कियों को उनकी क्षमताओं का एहसास दिलाने में मदद करता है। राष्ट्रीय बालिका दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है जो लड़कियों के लिए एक बेहतर दुनिया बनाने के लिए काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

लड़कियों के अधिकार और भविष्य

लड़कों की तरह लड़कियां भी देश का भविष्य है। उनको भी शिक्षा, रोजगार के समान अवसर प्राप्त करने का अधिकार है। उन्हें बाल विवाह, यौन शोषण जैसी समस्याओं से बचाया जाना चाहिए। राष्ट्रीय बालिका दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है। इस अवसर पर होने वाले कार्यक्रमों में हम सभी को भाग लेना चाहिए ताकि हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक कर सकें और उन्हें भी लड़कियों के अधिकारों और भविष्य के बारे में सोचने के लिए प्रेरित करता है। हम सभी को इस दिन का उपयोग लड़कियों के लिए एक बेहतर भविष्य बनाने के लिए काम करने के लिए करना चाहिए।

यह भी पढ़ें…

Ghaziabad News: नवजात की मौत पर परिजनों ने किया हंगामा

Leave a Reply

Your email address will not be published.