November 29, 2022, 6:52 am

Yamuna Authority: एक्शन में आई अथॉरिटी, बिल्डरों का होगा फॉरेंसिक ऑडिट

Written By: गली न्यूज

Published On: Saturday September 3, 2022

Yamuna Authority: एक्शन में आई अथॉरिटी, बिल्डरों का होगा फॉरेंसिक ऑडिट

Yamuna Authority: योगी राज में बेईमान बिल्डरों की खैर नहीं है। नोएडा के सेक्टर 93 में ट्विन टावर गिराए जाने के बाद पहले ही करप्ट बिल्डर लॉबी दहशत में है और उसे बड़ी कार्यवाही का डर सता रहा है।गलत काम करने वाले बिल्डर या फिर समय से पजेशन नहीं देने वाले बिल्डर ग्रुप पर एक और तलवार लटक रही है।

क्या है मामला ? 

https://gulynews.com को मिली जानकारी के मुताबिक बदमाश और बेईमान बिल्डर पर नकेल कसने के लिए यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) ने बड़ा फैसला लिया है। यमुना अथॉरिटी के इसी फैसले से बिल्डर ग्रुप में हड़कंप मचा है। यमुना अथॉरिटी के इस फैसले का असर यह होगा कि कई बिल्डरों पर गाज गिर सकती है। यमुना अथॉरिटी ने बिल्डर (Builder) परियोजनाओं का फॉरेंसिक ऑडिट कराने का फैसला किया है। इसके लिए बकायदा फॉरेंसिक ऑडिट के लिए कंपनी का चयन किया जा रहा है।

फैसले का क्या होगा असर ?

यमुना अथॉरिटी के इस फैसले का सीधा असर करप्ट बिल्डरों पर पड़ने वाला है। इस फैसले के तहत

  • बिल्डरों के बैंक खाते की जांच होगी
  • साथ ही खरीदारों से ली गई रकम का भी ऑडिट किया जाएगा
  • बिल्डिंग के पास नक्से  के हिसाब से निर्माण की जांच की जाएगी
  • इतना ही नहीं खरीदारों की संख्या का आकलन भी किया जाएगा

यानी कि बिल्डर के हर उस पहलू की जांच की जाएगी जिससे बिल्डरों की गर्दन फंस सकती है। आम तौर पर देखा जाता है कि बिल्डर खरीदारों से पैसा लेकर बड़े पैमाने पर धांधली करता है इतना ही नहीं तय नक्शे के हिसाब से बिल्डिंकग की कंस्ट्रक्शन भी नहीं कराई जाती। अभी हाल ही में नोएडा के ट्विन टावर गिराने की घटना सामने आई थी। उस वक्त भी नियमों को ताक पर रखकर एपेक्स और सियान टावर बिल्डर सुपरटेक ने बनाए थे। कई अधिकारियों ने भी इसमें बिल्डर सुपरटेक की मदद की थी।

अब यमुना अथॉरिटी एक्शन में है। यमुना अथॉरिटी ने  12 बिल्डरों को ग्रुप हाउसिंग के लिए जमीन अलॉट की थी। अब इन सभी बिल्डरों की फॉरेंसिक ऑडिट कराई जाएगी। इस फॉरेंसिक सर्वे में निवेशकों से पैसा लेने के बाद भी प्रोजेक्ट पूरा न करने और

प्राधिकरण का बकाया जमा न करने ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी की तफ्शील से जांच की जाएगी। यमुना अथॉरिटी ने साफ कर दिया है कि फॉरेंसिक ऑडिट में गड़बड़ी  पाए जाने वाले बिल्डरों के खिलाफ सख्ती के साथ कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें:-

 

AAP MLA Slapped by her Husband: पंजाब में AAP विधायक को पति ने पीटा, CCTV में कैद हुई तस्वीर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.