February 1, 2023, 9:25 pm

Kanpur Hookah bar: कानपुर में धड़ल्ले से चल रहे हुक्का बार, लड़कियों का हुक्का पीते हुए वीडियो वायरल, पुलिस नहीं कर रही कोई कार्रवाई

Written By: गली न्यूज

Published On: Monday January 2, 2023

Kanpur Hookah bar: कानपुर में धड़ल्ले से चल रहे हुक्का बार, लड़कियों का हुक्का पीते हुए वीडियो वायरल, पुलिस नहीं कर रही कोई कार्रवाई

Kanpur Hookah bar:  आज का युवा नशे का आदि है. स्कूल के लड़के-लड़कियां के लिए तो सिगरेट, शराब, हुक्का पीना आम बात है. ऐसा ही कानपुर का भी हाल है. कानपुर में धड़ल्ले से हुक्का बार चल रहे हैं. खासकर युवाओं का अड्डा ये हुक्काबार बने हुए हैं. दिन हो या रात, हुक्का बार की रौनक कम नहीं होती. ताजा मामला कानपुर के चकेरी के लालबंगले स्थित हिचकी हुक्काबार (Hitchki Hookahbar)का है. यहां का एक वीडियो वायरल हो रहा है. जहां लड़के-लड़कियां जमकर हुक्का पीते नजर आ रहे है.  यूपी पुलिस के संरक्षण में यह हुक्काबार चल रहा है. शहर के युवाओं का यह हुक्काबार डेरा बना हुआ है.

पुलिस-प्रशासन की शह पर शहर में हुक्का बार चल रहे हैं. नशे के खिलाफ राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर अभियान चलाकर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. इसके बावजूद बारों में हुक्का का धुआं उड़त रहता है.

हुक्का पीते हुए वीडियो वायरल

वायरल वीडियो 20 सेकंड का है जिसमें कुछ लड़के और लड़कियां हुक्का पी रहे है. वीडियो कानपुर के हिचकी हुक्काबार (Hitchki Hookahbar)का है. आसपास काफी भीड़ है.चारों और युवा हुक्का पीते नजर आ रहे है.

नाबालिगों को परोसा जा रहा हुक्का 

हुक्का बारों में नाबालिगों की संख्या बढ़ती जा रही है. बिना रोक-टोक उनको हुक्का परोसा जाता है. यह तब हो रहा है जब हुक्का बार पूरी तरह से प्रतिबंधित है. खुलेआम अवैध धंधा जारी है. इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है.

इन इलाकों में हुक्का बार की भरमार

https://gulynews.com की जानकारी के अनुसार, चकेती, स्वरूपनगर, कोहना, गोविंद नगर, समेत मॉल रोड पर हुक्का बार की भरमार है. कैंट के एक बड़े होटल में भी हुक्का परोसा जाता है. इन थानों की पुलिस भी सवालों के घेरे में है.

 कमाई का अड्डा बने हुक्का बार

पुलिस व संबंधित विभाग के अफसर को पता है कि हुक्का बार कहां कहां चल रहे हैं. उन्होंने कार्रवाई करने के बजाय इनको कमाई का जरिया बना रखा है. जानकारी के मुताबिक हर महीने थाने से लेकर अन्य जिम्मेदार अफसरों को एक मुफ्त रकम पहुंचती है. इसलिए वह भी आंख बंद रखते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.