December 9, 2022, 2:30 am

Totka in Capetown: केपटाउन सोसाइटी में किसने रखा टोटका, रेजिडेंट्स के बीच चर्चा

Written By: गली न्यूज

Published On: Tuesday September 20, 2022

Totka in Capetown: केपटाउन सोसाइटी में किसने रखा टोटका, रेजिडेंट्स के बीच चर्चा

Totka in Capetown: क्या हो कि घर से बाहर निकले और किसी टोटके पर आप की नजर पड़ जाए। आपके कदम ठहर जाएंगे। आपकी आंखें चौक जाएंगी और आप कहीं ना कहीं परेशान हो जाएंगे। नोएडा के एक पॉश सोसाइटी से ऐसा ही मामला सामने आया है जिसके बाद से रेजिडेंट्स के बीच यह बड़ी चर्चा का विषय बन गया है।

क्या है मामला ?

गौतमबुद्ध नगर के नोएडा स्थित सेक्टर 74 (Sector-74, Noida) के सुपरटेक केपटाउन (Capetown Society) सोसाइटी में उस वक्त अचानक कुछ लोगों के बीच यह टोटका (Totka in Capetown) चर्चा का विषय बन गया। जब कुछ लोगों की नजरें उस टोटके पर पड़ी। टोटके पर नजर पड़ते ही लोगों के बीच हंगामा मच गया। लोग तरह-तरह की बातें करने लगे और परेशान हो गए। आलम यह था कि कुछ लोगों ने तो इसकी शिकायत सोसाइटी के ऑफिशियल कंप्लेंट ऐप My Gate ऐप पर भी की है।

कैसा है टोटका ?

दिखने में बेहद साधारण टोटका CV -8 टॉवर दो पिलर के बीच में रखा हुआ था। काले रंग से लबरेज इस टोटके को फूलों से सजाया गया था। सवाल यह है कि इस टोटके को दीवार के बीच में किसने रखा? क्या मकसद है इस टोटके को रखने का? किसी की शरारत है या फिर यह जानबूझकर के किसी ने अपने किसी गुप्त काम को अंजाम तक पहुंचाने के लिए रखा है?

चुकी फिलहाल पितृ पक्ष का यह समय चल रहा है ऐसे में लोगों के बीच डर और दहशत बना हुआ है। लोग परेशान हैं कि किसने और क्यों इस टोटके को रखा?

रेजिडेंट्स क्या कहते हैं ?

https://gulynews.com ने जब इसकी पड़ताल की तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। हालांकि यह नहीं पता चला कि टोटके को किसने रखा और क्यों रखा लेकिन इस बारे में हमने देहाती भाई से बात की। देहाती भाई का कहना है कि कुछ समय पहले उनकी गाड़ी के नीचे भी इसी तरह का टोटका रखा गया था जिसके बाद उनकी गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया था।

केपटाउन सोसाइटी में ही रहने वाले नवीन मिश्रा का इस बारे में कहना है कि सोसाइटी में जल्दी ही चुनाव होने वाले हैं हो सकता है किसी ने चुनाव को प्रभावित करने के लिए इस टोटके का इस्तेमाल किया हो।
सोसाइटी में ही रहने वाले मुनमुन झा का कहना है कि हो सकता है कि यह चुनाव जीतने का भी एक तरीका हो जो कैंडिडेट चुनाव लड़ना चाहता हो, हो सकता है उसी ने इस टोटके को रखा भी हो।
कुछ लोगों का यह भी कहना है कि सोसाइटी से मेंटेनेंस टीम को भगाने के लिए भी इस टोटके का इस्तेमाल किया गया हो। क्योंकि कुछ लोग मेंटेनेंस की सर्विस से खुश नहीं हैं और अक्सर शिकायतों की बात करते हैं।
पढ़े-लिखे लोगों के बीच में भी यह टोटका बेहद चर्चा का सब्जेक्ट बन गया है। क्या यह टोटका वाकई में कारगर होगा या फिर यह केवल डर और दहशत या केवल चर्चा के लिए ऐसे टोटके का इस्तेमाल किया गया हो।

https://gulynews.com आपसे अपील करता है कि ऐसे किसी भी टोटके पर विश्वास ना करें अंधविश्वास से दूर रहें और खुद को सजग बनाएं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.