December 9, 2022, 1:46 am

Ghaziabad Street dog attack: आवारा कुत्तों का आतंक, कब मिलेगी मुक्ति

Written By: गली न्यूज

Published On: Sunday November 20, 2022

Ghaziabad Street dog attack: आवारा कुत्तों का आतंक, कब मिलेगी मुक्ति

Ghaziabad Street dog attack: गाजियाबाद में आवारा कुत्तों का आतंक धमने का नाम नहीं ले रहा है. गाजियाबाद में आवारा कुत्तों ने 1 साल की बच्ची के चेहरे का मांस नोंच लिया.  कुत्तों ने ऐसा काटा कि डॉक्टर टांके तक नहीं लगा पाए. अब बच्ची की सर्जरी होगी. मासूम बच्ची को चाइल्ड PGI नोएडा में भर्ती है. बता दें कि, बच्ची अपने घर के बाहर खेल रही थी इस दौरान आवारा कुत्तों ने उस पर हमला कर घायल कर दिया. वहीं, दूसरी तरफ सोसाइटी के बाहर गई 11 साल की बच्ची के पीछे 3 आवरा कुत्ते एक साथ दौड़ने लगे और उसके पैर में काट लिया.

आवारा कुत्ते ने 1 साल की बच्ची को नोंचा

गाजियाबाद के विजयनगर में घर के बाहर खेल रही एक साल की बच्ची पर आवारा कुत्ते ने हमला कर घायल कर दिया. उसके पिता सतपाल ने बताया कि शनिवार शाम उनकी बेटी रिया घर के बाहर खेल रही थी. तभी एक आवारा कुत्तों ने उस पर हमला कर दिया. शोर सुनकर परिवार के लोग आए, तब तक एक कुत्ता उनकी बेटी को बुरी तरह नोंच चुका था. चेहरे पर काफी गहरे जख्म आए हैं.  डॉक्टरों का कहना है कि चेहरे पर टांके नहीं लगाए जा सकते, इसलिए सर्जरी होगी.

आवारा कुत्तों ने 11 साल की बच्ची को काटा 

दूसरा मामला गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाना क्षेत्र के वैशाली इलाके का है, वैशाली इलाके की राम प्रस्थ सोसाइटी (Ram Prastha Society) निवासी विभोर गुप्ता की 11 वर्षीय बेटी भव्या गुप्ता सोसाइटी के बाहर चली गई थीं.  सोसाइटी गेट पर ही तीन आवारा कुत्ते उसके पीछे दौड़ पड़े. CCTV कैमरे की फुटेज में दिख रहा है कि वो तीन कुत्तों से बचकर भाग रही है. जब तक वो सोसाइटी के गेट के अंदर घुसी, तब तक एक कुत्ते ने उसके पैर में काट लिया. गेट पर तैनात सिक्योरिटी गार्ड बाहर निकलकर आया. तब जाकर कुत्ते वहां से भागे. भव्या को निजी हॉस्पिटल में रैबीज इंजेक्शन लगवाया गया है.

पढें: https://gulynews.com/mukesh-ambani-daughter-isha-gives-birth-to-twins/

सोसाइटी में नियम लागू, बाहर कुछ नहीं

गाजियाबाद में नगर निगम ने सोसाइटी में पालतू और आवार कुत्तों के लिए  तो नियम बना दिए हैं. लेकिन, सोसाइटी के बाहर रहने वाले स्ट्रीट डॉग पर ये नियम लागू नहीं होते. गाजियाबाद में शनिवार को दोनों घटनाएं सोसाइटी के बाहर स्ट्रीट डॉग द्वारा की गईं. लोगों का कहना है कि नगर निगम स्ट्रीट डॉग को न तो पकड़ रहा, न ही उनकी नसबन्दी करा रहा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.