November 29, 2022, 7:07 am

अब एक कॉल पर फ्री में उठेगा आपके घर का मलबा, जानें क्या करना होगा आपको

Written By: गली न्यूज

Published On: Wednesday July 13, 2022

अब एक कॉल पर फ्री में उठेगा आपके घर का मलबा, जानें क्या करना होगा आपको

Noida Authority builds construction and demolition waste plant: अगर आप नोएडा (Noida) में नया घर-ऑफिस या फैक्ट्री बनवा रहे हैं, पुरानी बिल्डिंग को तुड़वा रहे हैं तो निकलने वाले मलबे को लेकर अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. एक फोन कॉल पर मलबा उठाने के लिए कर्मचारी आ जाएंगे. यह एक प्राइवेट कंपनी के कर्मचारी होंगे, आपका मलबा फ्री में उठाएंगे. इसके लिए नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) ने एक प्लान तैयार किया है.

प्लान के तहत कंपनी ने नोएडा के सेक्टर-80 में अपना कंस्ट्रक्शन एंड डिमोलिशन वेस्ट (Construction & Demolition Waste) प्लांट बनाया है. नोएडा से निकलने वाले मलबे को यहां रिसाइकिल किया जाएगा. मलबा उठाने के लिए नोएडा में 14 कलेक्शन सेंटर बनाए गए हैं.

नोएडा अथॉरिटी और कंपनी के बीच हुए समझौत के मुताबिक कंपनी घर, ऑफिस, होटल-रेस्टोरेंट, पब्लिक प्लेस और कंस्ट्रक्शन साइट से कूड़ा उठाएगी. यह मलबा पूरी तरह से फ्री में उठाया जाएगा. मलबा इकट्ठा करने के लिए शहर में 14 कलेक्शन सेंटर भी बनाए गए हैं. हर सेंटर की जानकारी अथॉरिटी की वेबसाइट पर डाल दी जाएगी. इसके साथ ही उस कलेक्शन सेंटर से जुड़े व्यक्ति का मोबाइल नंबर भी दिया जाएगा. अभी प्लांट के नंबर 18008919657 पर भी फोन किया जा सकता है.

पढ़ें: नोएडा: इस आश्रम में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर होगा कार्यक्रम का आयोजन

नोएडा शहर में निकलने वाले मलबे से इंटरलॉकिंग टाइल्स और ईटें बनाई जाएंगी. नोएडा अथॉरिटी ने इसके लिए कंपनी को सेक्टर-80 में जगह दी है.

राज्य में हर रोज निकलने वाले कूड़े को रिसाइकिल करने में मध्य प्रदेश पहले नंबर पर है. मध्य प्रदेश में हर रोज 6424 मीट्रिक टन कूड़ा निकलता है. लेकिन निकलने वाले कूड़े का 80 फीसद हिस्सा रिसाइकिल कर लिया जाता है. इसी तरह से दूसरे और तीसरे नम्बर पर तेलंगाना 78 और गुजरात 75 फीसद हैं. सबसे कम रिसाइकिल 9 प्रतिशत कूड़ा पश्चिम बंगाल करता है. यहां हर रोज 7700 मीट्रिक टन कूड़ा निकलता है. टॉप 10 राज्यों में राजस्थान 68, तमिलनाडु 60, उत्तराखण्ड 58, दिल्ली-महाराष्ट्र 55 और कर्नाटक 37 फीसद है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.