February 6, 2023, 1:53 am

CEO Byju Raveendran: BYJU’s के CEO को NCPCR ने भेजा नोटिस, बच्चों का मानसिक रूप से शोषण करने का लगा आरोप

Written By: गली न्यूज

Published On: Saturday December 17, 2022

CEO Byju Raveendran: BYJU’s के CEO को NCPCR ने भेजा नोटिस, बच्चों का मानसिक रूप से शोषण करने का लगा आरोप

CEO Byju Raveendran: BYJU’s के सीईओ बायजू रवींद्रन (BYJU’s CEO Byju Raveendran) के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही. छंटनी के विवाद में राज्य सरकारों का गुस्सा झेलने के बाद अब उन्हें राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (National Commission for Protection of Child Rights) की तरफ से नोटिस मिला है. आयोग ने ये नोटिस इन रिपोर्ट के आधार पर भेजा है जिसमें बायजू पर आरोप है कि वो बच्चों को गलत तरीके से कोर्स बेच रही है. इससे बच्चों का मानसिक रूप से शोषण हो रहा है. साथ ही कंपनी पर मांगे जाने पर रिफंड न करने का भी आरोप लग रहा है.

क्या है मामला

जानकारी के अनुसार ऐसे कई मामले सामने आए हैं जिनसे लगता है कि कंपनी बच्चों और उनके अभिभावकों को गलत तरीके से कोर्स बेच रही है. वहीं इन महंगे कोर्स को लेने के लिए अभिभावकों को कर्ज आधारित एग्रीमेंट भी करवा रही है. यही नहीं जब अभिभावक इस बारे में कंपनी से शिकायत कर रहे हैं तो कंपनी उनके सवालों पर कोई जवाब नहीं दे रही है. और न ही पैसा वापस मांगे जाने पर रिफंड कर रही है.

ऐसे कई मामले सोशल मीडिया पर भी आए हैं जहां लोगों ने शिकायत की है कि कोर्स उनकी उम्मीद के मुताबिक नहीं थे और न ही अब पैसा रिफंड किया जा रहा है. इसी सब को देखते हुए आयोग ने बायजू के सीईओ को सभी कोर्स की डिटेल, कोर्स स्ट्रक्चर, फीस, रिफंड पॉलिसी से जुड़े दस्तावेजों के साथ पेश होने को कहा है. वहीं एनसीपीसीआर ने चेतावनी दी है कि अगर रवींद्रन पेश नहीं होते हैं तो उन पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें-

Noida crime: खासने को लेकर दो पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे, 9 लोग घायल

कई विवादों में घिरी बायजू

कुछ समय पहले लोकसभा सदस्य कार्ति चिदंबरम ने शिक्षा क्षेत्र की इस स्टार्टअप की financial स्थिति के बारे में चिंता जताई थी जिसके बाद आईसीएआई ने बायजू द्वारा किए गए वित्तीय खुलासे की जांच की थी. आईसीएआई ने कहा कि बायजू से जुड़े कुछ मुद्दे हैं, जिन पर विचार करने की जरूरत है. वहीं अक्टूबर और नवंबर के महीने में कंपनी छंटनी को लेकर विवादों में घिर गई थी. दबाव बढ़ने पर कंपनी ने केरल से 140 कर्मचारियों को अन्य स्थान पर भेजने का निर्णय वापस ले लिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.