November 29, 2022, 7:53 am

Ghaziabad Double Murder: गाजियाबाद में बुजुर्ग दंपती की हत्या

Written By: गली न्यूज

Published On: Tuesday November 22, 2022

Ghaziabad Double Murder: गाजियाबाद में बुजुर्ग दंपती की हत्या

Ghaziabad Double Murder: गाजियाबाद में पति-पत्नी की हत्या कर दी गई. पति का नग्न शव (naked dead body) कमरे में और महिला का शव घर के आंगन में पड़ा मिला. जिस घर में यह घटना हुई वह 50 गज का है. घटना के वक्त 8 मेंबर्स थे, लेकिन किसी को कानों-कान खबर तक नहीं हुई. जब सोमवार सुबह परिवार के लोग उठे तो मर्डर का पता चला. उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने दोनों शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. पुलिस को शक है कि इस डबर मर्डर में किसी नजदीकी का हाथ है.

पहले किसकों मारा ?

पुलिस ने बताया कि मंगलवार सुबह 8 बजे ट्रोनिका सिटी की चर्च कॉलोनी से यूपी-112 को सूचना दी गई कि बुजुर्ग दंपती की हत्या कर दी गई है. मरने वालों की पहचान 60 वर्षीय इब्राहिम खान और उनकी पत्नी हाजरा के रूप में हुई है.

पुलिस का कहना है कि क्राइम सीन थोड़ा उलझाने वाला है, क्योंकि पति की लाश कमरे में मिली है, जबकि महिला की लाश आंगन में. अगर महिला बचाने के लिए भागी और उसको मारा गया तो वो चीखी होगी. लेकिन परिवार के किसी सदस्य ने चीख नहीं सुनी. ऐसे में डाउट जाता है कि कोई नजदीकी इस मर्डर में शामिल हो सकता है. एक अनुमान ये भी है कि पहले महिला को आंगन में मारा गया हो, फिर हत्यारे ने कमरे में जाकर इब्राहिम खान को मार दिया हो. फिलहाल पुलिस हत्या के मोटिव की जांच कर रही है.

इब्राहिम की दो शादियां ?

इब्राहिम कबाड़ का काम करता था. घर के बराबर में ही कबाड़ पड़ा हुआ था. उन्होंने दो शादियां की थीं. पहली बीवी दिल्ली में रहती है. हाजरा उनकी दूसरी बीवी थी, जिसका मर्डर हुआ है. बताया जा रहा है कि गले में फांसी का फंदा लगा हुआ था. अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद हत्या कैसे की गई और उसकी सही टाइमिंग का पता चल सकेगा.

पढ़ें: https://gulynews.com/benefits-of-honey-in-winter/

इब्राहिम की बहू का बयान 

जिस घर में वारदात हुई, इसका एरिया करीब 50 गज है. इतने छोटे घर में परिवार के छोटे-बड़े कुल 8 मेंबर रहते हैं. सदस्यों का कहना है कि उन्हें इस हत्या के बारे में पता नहीं चला और न ही कोई शोर सुनाई दिया.

बहू फातिमा ने कहा, “मैं सुबह 6 बजे दूध लाने के लिए उठी.  देखा तो पापा कमरे में पड़े थे. मैंने मन ही मन में कहा कि ये वैसे ही बीमार रहते हैं, ऊपर से ठंड के मौसम में नग्न पड़े हैं. मैंने पापा को उठाना चाहा, लेकिन वे नहीं उठे. कमरे में मां नहीं थीं. मैंने सोचा कहीं निकल गई होंगी. देखा तो उनकी लाश भी घर के आंगन में पड़ी थी. रात में कौन आया, किसने ये सब किया, कुछ नहीं पता.

Leave a Reply

Your email address will not be published.