October 7, 2022, 6:26 am

इंतहा हो गई इंतजार की…अब इस दिन होगा सुपरटेक और यूनियन बैंक में समझौता

Written By: गली न्यूज

Published On: Thursday May 26, 2022

इंतहा हो गई इंतजार की…अब इस दिन होगा सुपरटेक और यूनियन बैंक में समझौता

Supertech-Union Bank case: सुपरटेक और यूनियन बैंक ( Union Bank Of India) के बीच पैसों को लेकर चल रहे विवाद पर अभी तक कोई फैसला नहीं हो पाया है. हालांकि 25 मई को भी समझौता होने की बात कहीं गई थी लेकिन कुछ नहीं हो पाया. जिसके बाद अब मामले में 1 जून को सुनवाई होने जा रही है. इसके लिए IRP को अब तक मिले सभी दावों की रिपोर्ट देने को कहा गया है. 

दरअसल सुपरटेक पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का कर्ज बकाया था. कंपनी बैंक का कर्ज नहीं चुका रही थी और कई बार डिफॉल्ट करने की वजह से यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India) ने नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) की दिल्ली स्थित बेंच के पास सुपरटेक के इनसॉल्वेंसी की याचिका दायर की थी.  यूनियन बैंक की याचिका को NCLT-दिल्ली ने स्वीकार कर लिया.

सुपरटेक के इनसॉल्वेंसी में जाने का 25,000 होमबायर्स दिक्कतें बढ़ सकती हैं. इन होमबायर्स ने सुपरटेक के हाउसिंग प्रोजेक्ट में  घरों की बुकिंग कराई थी लेकिन उन्हें अभी तक पजेशन नहीं मिला है. ये होमबायर्स पिछले कई साल से अपने घर के पजेशन मिलने का इंतजार कर रहे हैं.

NCLT ने इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत सुपरटेक के लिए  हितेश गोयल को इनसॉल्वेंसी रेज्योलूशन प्रोफेशनल (IRP) नियुक्त किया है. एनसीएलटी ने इस मामले की सुनवाई करते हुए 17 मार्च 2022 को अपना सुरक्षित रखा था. सुपरटेक ने यूनियन बैंक के एक बार पूरे बकाये कर्ज को लौटाने से के प्रस्ताव को खारिज कर दिया था. सभी दलीलों को सुनने के बाद NCLT ने सुपरटेक को इनसॉल्वेंसी में डाल दिया है.

बता दें कि, 23 मई को दिवालिया (Insolvency) केस में सुनवाई हुई लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला. हालांकि सुपरटेक ने एक प्रपोजल यूनियन बैंक के सामने रखा है. जिस पर आज सुनवाई होनी है. इसमें कुछ वेंडर्स जो पार्टी बन गए हैं उन्होंने भी Insolvency केस में एंट्री ली है. इस बीच IRP हितेश गोयल ने फ्लैट खरीदारों से अपनी बकाया पैसा चुकता करने की अपील की है. ताकि बिल्डर उन्हें तय वक्त पर फ्लैट मुहैया करवा सके. लेकिन जिस वक्त से सुपरटेक का Insolvency केस सामने आया है. इन फ्लैट में तेजी से चल रहा काम बिल्कुल ही धीमा पड़ गया है. कई जगहों पर तो काम बंद भी हो गए हैं. ऐसे में फ्लैट खरीदारों की चिंता कम होने की जगह बढ़ती ही जा रही है.

NCLT के फैसले के खिलाफ सुपरटेक ने NCLAT में अपील की है। NCLATअब इस मामले की सुनवाई कर रही है. इसी सुनवाई के दौरान यूनियन बैंक के साथ सुपरटेक बिल्डर की बातचीत जारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.