February 1, 2023, 9:16 pm

Noida news: नोएडा में गलत तरीके से चल रहे PG को बंद करने की मांग, लोगों ने प्राधिकरण से लगाई मदद की गुहार

Written By: गली न्यूज

Published On: Thursday January 12, 2023

Noida news: नोएडा में गलत तरीके से चल रहे PG को बंद करने  की मांग, लोगों ने प्राधिकरण से लगाई मदद की गुहार

Noida news: देशभर के बड़े-बड़े शहरों में स्टूडेंट्स अपनी पढ़ाई और नौकरी करने के लिए आते है. अपने घरों से दूर ये लोग अकेले होने की वजह से फ्लैट या किराए के कमरों के ब्जाय पीजी (PG) में रहना पसंद करते है. क्योंकि पीजी में कम कीमत में ठीक-ठाक रूम और सभी सुविधा मिल जाती है. बड़े-बड़े शहरों में पीजी की मांग भी बढ़ने लगी है. कई शहरों में पीजी ना मिलने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ग्रेटर नोएडा, नोएडा जैसे शहरों में भी पीजी का संचालन काफी ज्यादा बढ़ता जा रहा है, जिसके चलते यहां अवैध तरीके से पीजी का संचालन होने लगे है. यहां पीजी की बढ़ती मांग को देखते हुए शहर के अधिकांश सेक्टरों में पीजी का संचालन बढ़ने लगा है, लेकिन यहां अवैध पीजी के संचालन से सेक्टर वासियों की बड़ी समस्या बन गई है. 

निवासियों की मांग है कि जहां पर पीजी बने हुए हैं, उन इलाकों का निरीक्षण किया जाए और अवैध पीजी को बंद किए जाए. पीजी की वजह से लोगों को मूलभूत सुविधा ठीक प्रकार से नहीं मिल पा रही है. पीजी के आसपास अधिकतर लोगों का जमावड़ा लगा रहता है और पीजी में आने वाले लोगों के वाहन सड़कों पर खड़े करते हैं, जिसकी वजह से लोगों को दिक्कतें होती हैं. इसके अलावा पानी का प्रेशर भी ठीक तरीके से नहीं आता है, क्योंकि अधिकतर पानी की सप्लाई पीजी में जाती है. इसके अलावा सेक्टरों में सीवर जाम होते हैं. इन सभी मुद्दों को लेकर एक बार फिर निवासियों ने प्राधिकरण से मदद की गुहार लगाई है.

ये भी पढ़ें-

Sharad Chandra Murder Case: आम्रपाली ग्रुप के MD पर CBI ने दर्ज किया हत्या का केस, जानें क्या है मामला

आपको बता दें कि, ग्रेटर नोएडा और नोएडा प्राधिकरण ने काफी समय पहले पीजी व गेस्ट हाउस के खिलाफ कार्रवाई की थी, लेकिन उस समय पीजी के मालिक नोएडा प्राधिकरण के एक्शन के खिलाफ हाईकोर्ट से स्टे ले आए थे. जिसके बाद इस कार्रवाई को रोका गया. अब एक बार फिर नोएडा शहर के लोगों ने यह मुद्दे को उठाया है. लोगों का कहना है कि अवैध पीजी होने की वजह से काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.