October 4, 2022, 2:11 am

Honey trap MMS Video: पहले फंसाया.. फिर MMS बनाया, अब ब्लैकमेलिंग। दिल्ली का सरकारी अधिकारी बुरा फंसा।

Written By: गली न्यूज

Published On: Saturday May 7, 2022

Honey trap MMS Video: पहले फंसाया.. फिर MMS बनाया, अब ब्लैकमेलिंग। दिल्ली का सरकारी अधिकारी बुरा फंसा।

Honey trap MMS Video: अक्सर दुश्मनों से जानकारी निकालने के लिए हनी ट्रैप (Honey trap) का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन आज कल कई जालसाजों ने इसे अपना धंधा बना लिया है। दिल्ली जल बोर्ड के एक आधिकारी को हनी ट्रैप में फंसाकर लाखों रुपये की रंगदारी वसूल की जा रही थी। इस आरोप में एक महिला समेत तीन लोगों को ग्रेटर नोएडा पुलिस (greater noida police) ने गिरफ्तार किया।

अभी तक आरोपी महिला, सरकारी अधिकारी से करीब 3 लाख रुपये वसूल कर चुकी है। इतना ही नहीं, महिला ने जल निगम के अधिकारी के खिलाफ रेप का मुकदमा भी दर्ज करा दिया है। इसके बाद भी 12 लाख रुपये की डिमांड की जा रही थी। जब पुलिस ने इस मामले की जांच की तब महिला की करतूत उजागर हुई। वहीं इस मामले का मास्टरमाइंड अभी भी फरार हैं।

यह भी पढ़ें : आंसर शीट में आंसर की जगह लिखा.. जय श्री राम, जय श्री कृष्णा तो एक्जामनर चौंका। दिए इतने नंबर

एमएमएस (MMS) बनाने का पूरे जाल
जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि दोनों (अधिकारी और महिला) वृंदावन से ग्रेटर नोएडा आए थे। महिला उन्हें देर रात होने की बात कहकर डेल्टा-2 स्थित एक होटल ले गई। होटल में पहले से ही महिला के दो साथी मौजूद थे। जिसके बाद दोनो का एमएमएस वीडियो (MMS Video) बना लिया। जिसके बाद आरोपियों ने आधिकारी से पैसे मांगने शुरू कर दिए और बाद में महिला ने बीटा-2 कोतवाली में जल निगम अधिकारी पर रेप का आरोप लगा मुकदमा दर्ज किया।

सच का सामना
पुलिस ने बताया कि इस गैंग का मास्टरमाइंड देवेंद्र सिंह है। जिस महिला ने रेप की रिपोर्ट लिखवाई वो अलीगढ़ के खैर में ब्यूटी पॉर्लर चलाती है। उसे रुपयों की जरुरत थी इसलिए उसने ये काम किया।

वहीं, अलीगढ़ के वैना गांव निवासी नीरज देवी उर्फ रिया, गौतमबुद्ध नगर के जेवर के भरत और रबूपुरा निवासी प्रशान्त कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि, देवेंद्र, मिंटू, पांचाल और महिला का फर्जी पति फरार है।

यह भी पढ़ें : मई में 11 दिन बंद रहेंगे बैंक। जाने से पहले यहां चेक करें पूरी लिस्ट ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.