November 29, 2022, 6:00 am

Childrens Trapped in lift : ग्रेनो वेस्ट के इस सोसाइटी की लिफ्ट में 40 मिनट तक फंसे बच्चे, CCTV कैमरा भी था खराब

Written By: गली न्यूज

Published On: Monday November 7, 2022

Childrens Trapped in lift : ग्रेनो वेस्ट के इस सोसाइटी की लिफ्ट में 40 मिनट तक फंसे बच्चे, CCTV कैमरा भी था खराब

Childrens Trapped in Lift: हाईराइज सोसाइटी में एक तरफ भले ही मेंटेनेंस के नाम पर लाखों करोड़ों वसूले जाते हों लेकिन कई बार ऐसे मेंटेनेंस के पोल भी खुल जाते हैं। खासतौर से लिफ्ट मेंटेनेंस को लेकर के लगभग हर सोसाइटी से आए दिन कुछ न कुछ खबरें आते ही रहती है।

ताजा मामला क्या है ?

ग्रेटर नोएडा के ग्रेनो वेस्ट की सोसाइटियों में लगातार बच्चों के लिफ्ट में फंसने (Childrens Trapped in Lift) की घटना सामने आ रही है. ताजा मामला ग्रेनो वेस्ट का है. ग्रेनो वेस्ट की गुलशन बेलिना सोसाइटी (Gulshan Bellina Society) के टावर-ई की लिफ्ट में करीब 40 मिनट तक छह बच्चों के फंसने का मामला सामने आया है.

क्या है मामला ?

ग्रेनो वेस्ट की गुलशन बेलिना सोसाइटी (Gulshan Bellina Society) के टावर-ई की लिफ्ट में करीब 40 मिनट तक छह बच्चों के फंसने का मामला सामने आया है. बच्चों ने चिल्ला कर मदद मांगी, लेकिन कोई सुन नहीं पाया. बार-बार अलार्म बजने के बाद भी सुरक्षाकर्मियों ने कोई कार्रवाई नहीं की.

पढ़ें: Fuel theft case in UP: यूपी में पेट्रोल पंप पर चिप लगाकर चोरी करते थे पेट्रोल-डीजल, मालिक समेत 8 गिरफ्तार

परिजनों का आरोप है कि लिफ्ट की चाबी मिलने में काफी समय लग गया. इस कारण बच्चों को निकालने में देरी हुई. लिफ्ट के सीसीटीवी कैमरे भी खराब मिले. घटना के बाद से लोगों में काफी गुस्सा है.
https://gulynews.com को मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार शाम टावर ई में 14वीं मंजिल पर राजू शर्मा के फ्लैट में जन्मदिन की पार्टी थी. सोसाइटी के अलग-अलग टावर के बच्चे भी पार्टी में शामिल होने पहुंचे थे. रात करीब 9:40 बजे सात बच्चे घर जाने के लिए निकले थे. अचानक झटके के साथ लिफ्ट 14वीं मंजिल पर ही अटक गई. काफी देर फंसे रहने के बाद कुछ लोगों ने बच्चों के चिल्लाने की आवाज सुनी. उन्होंने आपातकालीन नंबर पर फोन किया, लेकिन वह बंद मिला. इसके बाद लोगों ने टावर के सुरक्षाकर्मी को सूचना दी, लेकिन उसके पास लिफ्ट खोलने की चाबी नहीं थी. सोसाइटी के मुख्य गेट पर चाबी लाने की सूचना दी गई. ऐसे में चाबी लाने में करीब 40 मिनट लग गए. इसके बाद बच्चों को बाहर निकाला गया.
लिफ्ट में लगा सीसीटीवी कैमरा था खराब

हल्ला हंगामे के बाद जब जांच की गई तो पता चला कि लिस्ट में सीसी कैमरा लगा तो हुआ था लेकिन यह कैमरा वर्किंग नहीं था यानी काम नहीं कर रहा था। इसकी जानकारी मिलने के बाद एक बार फिर लोगों ने जमकर हंगामा किया और मेंटेनेंस कंपनी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। रेजिडेंट्स मैं इस मामले को लेकर काफी रोष है। लोग ऐसी कंपनी पर सवालिया निशान खड़े कर रहे हैं और पूछ रहे हैं कि जब सुरक्षा और अच्छी व्यवस्था ही नहीं तो फिर मेंटेनेंस काहे की?

यह भी पढ़ें :-

Delhi Rape Case: दिल्ली के इस अस्पताल में नाबालिग से रेप

Leave a Reply

Your email address will not be published.