November 29, 2022, 6:45 am

Patanjali medicines Ban: पतंजलि की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगा बैन, विज्ञापन पर रोक

Written By: गली न्यूज

Published On: Monday November 14, 2022

Patanjali medicines Ban: पतंजलि की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगा बैन, विज्ञापन पर रोक

Patanjali medicines Ban: पतंजलि (Patanjali) की दवाओं को लेकर फिर विवाद हो गया है. उत्तराखंड में आयुर्वेदिक और यूनानी सेवा के अधिकारियों ने पतंजलि की पांच दवाओं का उत्पादन रोकने के लिए कहा है (Patanjali Drugs Banned). साथ ही इनके विज्ञापनों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं. बताया जा रहा है कि दवाओं के फॉर्मूला की जांच की जाएगी और अप्रूवल के बाद ही उत्पादन और विज्ञापन जारी किए जाएंगे.

बता दें कि, ये सारा विवाद पतंजलि की दवा के खिलाफ दर्ज की गई शिकायत के बाद से शुरू हुआ है.

https://gulynews.com को मिली जानकारी के अनुसार पतंजलि की जिन पांच दवाओं पर रोक लगाई गई है उनके नाम हैं, दिव्य मधुग्रित, दिव्य आईग्रिट गोल्ड, दिव्य थायरोग्रिट, दिव्य BPग्रिट और दिव्य लिपिडोम. इन दवाओं का इस्तेमाल डायबिटीज, आंखों के इन्फेक्शन, थायरॉइड, ब्लड प्रेशर और हाई कॉलेस्ट्रॉल की समस्या से निपटने के लिए किया जाता है. योग गुरु बाबा रामदेव द्वारा स्थापित पतंजलि के तहत आने वाली दिव्य फार्मेसी पर कई बार ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज एक्ट के उल्लंघन के आरोप लगे हैं.

उत्तराखंड के आयुर्वेदिक और यूनानी सेवा में लाइसेंस अधिकारी डॉ जी.सी.एस. जंगपांगी ने दिव्य फार्मेसी को चिट्ठी लिखी है. इसमें पांचों दवाओं के उत्पादन को रोकने और इनके एड बंद करने को कहा गया है. उन्होंने कहा है -हमने एक टीम बनाई है जो इन दवाओं की फॉर्मूलेशन शीट की जांच करेगी. जब तक संबंधित अधिकारी जांच कर दवा बनाने की मंजूरी नहीं देते, उत्पादन बंद रखने को कहा गया है. बिना मंजूरी के विज्ञापन भी नहीं चलाए जा सकते. ऐसा किया गया तो मुकदमा होगा.

पढ़ें: https://gulynews.com/chardham-yatra-was-done-from-helipad-built-in-jaypee-greens-society-noida/

मामले पर पतंजलि का कहना है कि दिव्य फार्मेसी की दवाएं सभी निर्धारित मानकों के अनुसार तैयार की गई हैं. कंपनी ने इस मामले को साजिश करार दिया है. उसके बयान के मुताबिक -हम पर वे लोग हमला कर रहे हैं जो दवा की दुनिया में भ्रम और डर का कारोबार करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.